Saturday, May 30, 2009

समझदार को इशारा काफी !

आज माँ की बहुत याद आ रही है.... और उसका मौन... एक भी गलती हो जाने पर भयानक सज़ा मिलती....वह भी उसका अनंत मौन..... चारों दिशाओं में गहराती खामोशी.... और मेरे मन में हलचल.... मन ही मन चिल्लाती..... 'मम्मीईईईईईईईई ...... चिल्लाओ मुझ पर.... चीख चीख कर डाँटो..... गलती की है तो तमाचा जड़ दो.... बुरा भला कहो....लेकिन चुप न रहो..... ' लेकिन उधर.... एक कभी न टूटने वाली खामोशी...... जिससे दिल टूट टूट जाता..... लेकिन उस टूटने की आवाज़ माँ के कानों में न पहुँचती......

ग्यारहवीं कक्षा की परीक्षा के दिनों में अपनी सहेली के घर कुछ नोटस लेने गई..... शाम 6 बजे से पहले वापिस लौटने का वादा था लेकिन 7 बजे लौटी.... माँ ने दरवाज़ा खोला 8 बजे........... एक घंटा देरी से आने का एहसास हो गया था.... सज़ा भंयकर लेकिन इंसान गलतियों का पुतला... हर बार कोई न कोई गलती..... हाँ एक ही गलती को दुबारा दुहराने की नौबत कभी न आई....

धीरे धीरे चुपके चुपके जाने कब से यही मौन मुझमें आ बैठा..... लेकिन एक नए रूप में....माँ के मौन के आगे हम ठहर न पाते लेकिन हमारे बच्चे उस मौन को तोड़ने की हिम्मत करते हैं...

दोनों बेटे गलती करके खुद ही सामने आ बैठते हैं..... 'मम्मी, आप डाँटती क्यों नहीं.... चुप क्यों रह्ती हैं .......कभी कभी गलती पर डाँटना ज़रूरी होता है... तभी पता चलेगा कि आगे वही गलती नहीं दुहरानी है...' 'आप कभी नहीं कुछ कहतीं.... सब कुछ हम पर ही छोड़ देती हैं' ......

ऐसा सुनकर बस यही कहती...अपने देश में एक कहावत मशहूर है... बाप का जूता पाँव में आते ही बच्चे मित्र बन जाते हैं... फिर तो बस एक इशारा चाहिए और समझदार को इशारा काफी... एक उम्र के बाद अपनी गलती पहचानना और उसे फिर न दुहराना..... जिसे आ जाए.... वह जीवन में आने वाली मुसीबतों को आसानी से झेल जाएगा...

ऊँची आवाज़ में बोलने की ज़रूरत ही नहीं हुई..... कभी गलती हुई हो तो गलती करने के एहसास से ही एक दूसरे के सामने लज्जित होकर खड़े हो जाते क्योंकि परिवार के सभी सदस्यों के पैरों का साइज़ लगभग बराबर ही है......... कुछ कहने की ज़रूरत ही नहीं लगती... !

रियाद की शान -- बुलन्द ईमारतें


खाड़ी के देशों में साउदी अरब सबसे अलग अपने ही कानूनों के साथ चलने वाला देश है. मक्का-मदीना जैसे पवित्र तीर्थ स्थान वाले इस देश में दुनिया भर से हज करने के लिए लोग आते हैं...यहाँ पर्यटन के लिए वीज़ा की कोई गुंजाइश नहीं है.. हज और उमरा के अलावा लोग यहाँ सिर्फ नौकरी के लिए आते हैं...आसानी से वीज़ा न मिलने के कारण इस देश के बारे में जानने की जिज्ञासा लोगों मे बनी रहती है....

होटल की खिड़की से फैसलिया टॉवर और किंग़डम सेंटर दिखा तो सोचा कि आज इन बुलन्द ईमारतों की ही चर्चा की जाए.. यू.के. बेस्ड आर्चिटेक्ट फॉस्टर एंड पार्टंनर्ज़ द्वारा डिज़ाईन किया गया फैसलिया टॉवर रियाद की शान माना जाता है.. साउदी अरब की राजधानी रियाद के बीचों बीच बना यह टॉवर व्यापार का केन्द्र तो है ही इसमें शॉपिंग मॉल भी है जिसमें दुनिया भारत के मशहूर ब्रैंडज़ देखने को मिलते हैं...

दूर से यह ईमारत एक बॉलपॉएंट पेन की तरह दिखता है...जिसके चार मज़बूत बीम सबसे ऊपर पहुँच कर एक गोल्डन टिप से जुड़े दिखते हैं... एक गोल्डन टिप एक बॉल है..या कहिए कि एक ग्लोब है जो एक रिवोलविंग रेस्टोरेंट है....जिसमें बैठकर पूरे रियाद की खूबसूरती देखी जा सकती है...वहीं से रियाद की दूसरी खूबसूरत ईमारत किंगडम सेंटर दिखाई देता है....
किंग़डम सेंटर को बुर्ज अल ममलका भी कहा जाता है... 311 मीटर ऊँची ईमारत दुनिया की 45वीं ऊँची ईमारत है जिसे बेस्ट स्काईस्क्रेपर का एवार्ड भी मिला है... 99 फ्लोर्ज़ में 4 बेसमेंट भी हैं...व्यापार के इस केन्द्र में भी खूबसूरत शॉपिंग मॉल है..सबसे ऊपर 100 मीटर लम्बा डैक है, जहाँ से खड़े होकर पूरे रियाद को देखा जा सकता है... एक और खास बात है इस टॉवर में.... इसकी दूसरी मज़िल को लेडीज़ किंगडम कहा जाता है, जहाँ पुरुष दाखिल नहीं हो सकते...अल ममलका शॉपिंग मॉल और सिर्फ और सिर्फ औरतों के लिए है... जहाँ जाने माने 40 स्टोर्ज़ है ...लगभग 160 शोरूम्ज़ हैं जो औरतों द्वारा ही मैनेज किए जाते हैं... साम्बा बैंक की लेडीज़ ब्रांच ...लेडीज़ मॉस्क...रेस्टोरेंट ...कुल मिला कर औरतों से जुडी हर ज़रूरत को पूरा करता हुआ फ्लोर एक अलग ही मस्ती का माहौल दिखाता है....

Friday, May 29, 2009

रेगिस्तान का रेतीला आँचल



धरती माँ के बेलबूटेदार हरयाले आँचल की अपनी ही सुन्दरता है....खुश्बूदार रंगबिरंगे महकते फूल, तने खड़े छायादार पेड़, आँखों को सुकून देती हरी भरी नर्म दूब धरती के आँचल की निराली छटा है....

अरब पहुँचते पहुँचते धरती के आँचल के रूप रंग दोनो ही बदल जाते हैं.. कहीं लाल तो कहीं सफेद कहीं भूरा सा रेतीला रूप मन को लुभाने लगता है....
दूर तक लम्बी काली सड़क बलखाती चोटी सी लगती है... उस पर लहराती रेत सा दुपट्टा सरक सरक जाता.... जिसे इंसान अपने मशीनी हाथ से एक तरफ सरका देता ....

निगाहें क्षितिज के उस छोर तक जाना चाहती हैं जहाँ आसमान रेगिस्तान की गहराई में डूबता दिखाई
देता है...उसी डूबते आसमान से सूरज कूद कर बाहर निकल आता है....

बिजली की तारों पर नट जैसे करतब दिखाता चलने लगता.... उधर रेत की नटखट लहरें चक्रवात्त सी हलचल करके सूरज को गिराने की भरपूर कोशिश करतीं.... तो कहीं रेत अपनी झोली फैला कर लपकने को तैयार दिखती.....
दौड़ता कूदता थका सूरज कब उस झोली में आ दुबकता ,,,पता ही नहीं चलता...उसी पल दिशाएँ भी शांत सी हो जाती,,, हवा भी थम जाती जैसे रुक रुक कर धीमे धीमे साँस ले रही हो... हम भी अपने सफ़र के खत्म होने और मज़िल तक पहुँचने का इंतज़ार करते करते निढाल से हो जाते लेकिन सहरा में संगीत के मधुर सुर एक नई उर्जा शक्ति देने लगे....!!

Thursday, May 21, 2009

किसके दिल में है क्या किसे पता

उड़न तश्तरी की आज की पोस्ट ने इस गीत की याद दिला दी .....यह गीत सुन रहे है जो समीरजी की आज की पोस्ट पर सही लगा.....आप भी सुनिए लेकिन वहाँ से लौटते हुए ..... अबूझमाड़! --- मात्र यह टिप्पणी किस ब्लॉगर का हो सकती है....यह भी बताइए.....




देखो जो गौर से

चेहरे के पीछे भी – 2 चेहरा है
सोचो जो गौर से
पर्दे के पीछे भी – 2 पर्दा है
गहरा गहरा राज़ गहरा बड़ा
किसके दिल में है क्या किसे पता – 2
0000000......


देखो जो गौर से
चेहरे के पीछे भी – 2 चेहरा है
सोचो जो गौर से
पर्दे के पीछे भी – 2 पर्दा है
गहरा गहरा राज़ गहरा बड़ा
किसके दिल में है क्या किसे पता – 2
000000.......


डूबा कोई सोच में, कोई धन दौलत से यहाँ मगरूर है
कोई फसाँ चाल में, कोई तो शोहरत से यहाँ मश्हूर है
जुदा सबकी मज़िले, जुदा सबकी राहें
जुदा सबकी चाहतें जुदा
गहरा गहरा राज़ गहरा बड़ा
किसके दिल में है क्या किसे पता – 2
0000000.....


टूटा नशा प्यार का, झिलमिल शमाँ जो जल रही बेनूर है
झूठा यकीन यार का, लोगों ज़माने का यही दस्तूर है
ज़रा सी है बेअसर दिलों की आहें, वफा में भी तो है ज़फा
गहरा गहरा राज़ गहरा बड़ा
किसके दिल में है क्या किसे पता – 2

बच्चों का दुस्साहस या उत्सुकता

हर उम्र में बच्चे कुछ न कुछ नया जानना चाहते हैं...ज्यों ज्यों बच्चे बड़े होते है...उनकी उत्सुकता भी बढ़ती जाती है...किशोरावस्था में तो दुस्साहसी हो जाते हैं.... डर तो जैसे जानते ही नही........ इस उम्र में जोश तो होता है लेकिन होश खो बैठते हैं।
विद्युत के बचपन का दोस्त अदनान कनाडा से रियाद जाते वक्त दुबई दस दिन हमारे पास ठहरा... द्स दिन में दस कहानियाँ ....हर दिन की एक नई दास्तान...

दुबई शहर से दूर रेगिस्तान में बाबलशाम नाम का एक रिसोर्ट है जहाँ दोनो बच्चे अपने दोस्तों के साथ गए....कुछ देर बाद वहाँ से और आगे रेगिस्तान में ज़हरीले साँपों को देखने निकल गए...अंधेरी रात...लेकिन साँपों को देखने की चाहत ....... आधी रात तक रेतीले टीलो के आसपास घूमते रहे कि शायद एकाध साँप दिख जाए... आखिरकार बच्चों को सफलता मिली........

विद्युत के लैपटॉप में दो फिल्में देख ली...जो देखा उसे आप सबके साथ बाँटना चाहती हूँ......
बच्चे साँप को देख कर जितने खुश हुए...उतना ही उनकी आवाज़ में हैरानी , खुशी और डर भी महसूस किया...





(विद्युत ने फिल्म ली, आवाज़ अदनान की है... कार चलाने वाला दोस्त राहिल जो कार की हैडलाइट्स से रोशनी कर रहा था. )

Monday, May 18, 2009

अपने वजूद के होने का एहसास एक नई उर्जा भर देती है.

दुबई से निकलते वक्त हमने पति महोदय से कहा कि साउदी के बॉर्डर तक हम ड्राइव करते हैं...लेकिन मना करते हुए खुद ड्राइव करने लगे.... हमने भी बहस न करते हुए चुप रहना बेहतर समझा और दूसरी सीट पर जा बैठे... मन ही मन सोचने लगे कि यह भी एक तरह से ताकत का खेल है......हम क्यों चुप रह गए..फिर सोचा..मौन में भी ताकत होती है.... ज़रा देखे हमारा 'साइलैंस गोल्ड' का काम करता है कि नही.... उधर भी शायद मन में कुछ ऐसी हलचल हो रही थी ......
शहर से बाहर निकलते ही पैट्रोल डलवाने के बाद अचानक कार की चाबी हमें दे दी .....सच में साइलैंस गोल्ड होता है...इस बात को आप भी आजमाइए....
फौरन पति की ताकतवर कार की ड्राइविंग सीट पर आ बैठे..... ताकतवर कार इसलिए कि हमारी कार का इंजन कम पावर का है.... 1.3 सीसी...... और इधर 3.4 ....
हल्का सा पैर दबाते ही 140 की स्पीड..... 140...... 150....160...... हमारा इस तरह से ताकत के नशे में झूमना...... कुछ पल के लिए पति और बेटा दोनो विचलित हुए फिर हमारी विजयी मुस्कान का आनन्द लेने लगे... ......
बेटे ने तो कुछ नही कहा लेकिन विजय धीरे से बोल उठे .... 150 काफी है.... डस्ट स्ट्रोम कभी भी आ सकता था...हमारी मुस्कान थोड़ी फीकी हो गई..... लेकिन कहा मानकर फौरन स्पीड कम कर दी...
उस वक्त जो गाड़ी भगाने का आनन्द आया उसका बयान नहीं कर सकते..... ताकत का नशा ... अपने वजूद के होने का एहसास एक नई उर्जा भर देती है....यही उर्जा शक्ति हमें अपने आपको किसी से भी कमत्तर समझने नहीं देती...

Friday, May 15, 2009

नीर क्रीड़ा

छोड़ो कल की बातें , कल की बात पुरानी.... आज हम दुबई के सबसे बड़े दुबई मॉल में 'डांसनिंग फाउण्टैन' देख कर आए, दुबई की सबसे ऊँची ईमारत बुर्ज दुबई के सामने अलग अलग भाषाओ के गीतों पर झूमते हुए पानी को देख कर हम भी झूम उठे...
नीर क्रीड़ा कहें या नीर नृतक अभी पोस्ट का नाम सोच ही रहे थे कि वरुण की याद आई जो इसकी गहराई में जाकर सोचेगा कि सबसे पहले तो इंसान की लयाकत को सलाम करता , फिर इलैक्ट्रिक आर्ट का शीर्षक देने की बात करता क्यों कि बिजली और संगीत की धुन पर पानी की खूबसूरती को चार चाँद जो लग गए...
इंसान ने ही अरब सागर को दुबई के अन्दर खींचकर कैनाल को और सुन्दर रूप दे दिया .... फिर छोटी छोटी बातों पर किसका ध्यान जाता है....
आप विद्युत द्वारा बनाई गई इस नीर नृतक की फिल्म ज़रूर देखिए...

दूर के ढोल सुहावने.....!

आज बस जी चाहा कि किसी अनाम की टिप्पणी पर हम भी कुछ कहें....
काश ... सरहदें न होतीं.....सिर्फ अपने परिवार से दूर होने की चाहत से नहीं बल्कि कई ऐसे बिखरे परिवारों के दर्द को देख कर....जो चाह कर भी एक साथ नहीं रह सकते.....

पिछली पोस्ट पर एनोनिमस महोदय/महोदया लिखते हैं.......
"अपना देश क्यों छोड़ा ? क्या कोई ढकेलने वाला था या केवल अधिक पैसे के लिए
तो फिर आप क्यों रो रहे हो "
सबसे पहले तो आप इस भ्रम से निकले..... कि विदेश में अधिक पैसा मिलता है....सुविधाएँ ज़रूर आकर्षित करती है.....खैर पहला सवाल....अपना देश क्यों छोड़ा.....? देश छोड़ने के अलग अलग पारिवारिक कारण हो सकते हैं..... सिताह जैसे लोग तो हज़ारों की तादाद में मिलेंगे....
हमारे जैसे लोग भाग्य द्वारा बाहर ढकेले जाते हैं.... आप को यह रोना लगा....हमें यह बाँटना लगा.....
इस पोस्ट को लिखने का एक ही मकसद है कि विदेश में अधिक पैसा मिलता है इस भ्रम को तोड़ा जाए....जानते हुए भी कई लोग बाहर का रुख करते हैं इसके पीछे भी कई कारण है....
हमारे देश की बात ही नहीं... एशिया के लगभग सभी देशों में यही समस्या है....बेरोज़गारी से जूझते लोग...अपने परिवार के पालन पोषण के लिए देश से बाहर किसी भी काम को करने के लिए तैयार रहते हैं....

सरकार का ढाँचा...जनसंख्या... बेरोज़गारी...... रोज़गार न होने के कारण कई परिवार भूखों तड़पते देखे जा सकते हैं लेकिन हमारी मानसिकता ऐसी है कि हम अपने ही देश में वेटर या 'बेबी सिटिंग' का काम नहीं करेंगे... विदेश में कर लेंगे...क्यों.... वहाँ हर काम को इज़्ज़त की नज़र से देखा जाता है...
अपने आस पास कितने ही लोगों को देखा जो विदेश जाकर कोई भी काम करने के लिए तैयार रहते हैं लेकिन अपने देश में अपने ही घर का कूड़ा फेंकने के लिए जमादार चाहिए....
अच्छे घर परिवार की पढ़ी लिखी बहू घर बैठे बैठे ही बेबी सिटिंग करने के काम के बारे में सोच भी नहीं सकती....
पढ़ने वाले बच्चों को उधार ले लेकर पढ़ाने का बोझ माँ बाप अकेले ढोते हैं....बस तुम पढो... अच्छी नौकरी पा लो... कह कर अपने दर्द में बच्चों को हिस्सेदार नहीं बनाते.....वही बच्चे बड़े होकर अगर बूढ़े होते माँ बाप को एक तरफ छिटक दें तो फौरन उन्हें बुरा भला कहना शुरु कर देते हैं..... जबकि हम यह नहीं जानते कि बचपन से ही उन्हें एक दूसरे के दर्द में भागीदार बनाने पर ही वे परिवार से जुड़े रह पाएँगे.
विकासशील देश बेरोज़गारी की समस्या से जूझ रहे हैं....दुबई जैसे छोटे से देश में ही भारत, पाकिस्तान और श्रीलंका के लगभग 700,000 मज़दूरों को रोज़गार मिला हुआ है.
सुबह की चाय के वक्त इतना नीरस विषय.... बस बैठे बैठे यूँ ही लिख लिया तो अब पोस्ट तो ज़रूर करेंगे....
पूजा पाठ करते नहीं लेकिन नास्तिक भी नहीं....एक असीम शक्तिपुंज है जिसकी मर्जी के खिलाफ एक पत्ता भी नहीं हिलता.... यह सोच तो अटल है...
कर्म करने पर विश्वास रखते है तो भाग्य को भी मानते हैं....

(एनोनिमस महोदय/महोदया..... आपके कारण हम एक पोस्ट लिख पाए..आपका बहुत बहुत शुक्रिया .......)

Thursday, May 14, 2009

काश ..... सरहदें न होतीं..... !

गर सरहदें न होती तो इस वक्त बेटा वरुण भी अपने पापा के साथ दमाम से दुबई आ रहा होता. पूरा परिवार लम्बे अर्से के बाद एक साथ होता....एक साथ मिलकर उसका जन्मदिन मनाते..... लेकिन ज़रूरी नहीं कि जो हम चाहें सब वैसा ही हो.....
अक्सर ऊँची शिक्षा के लिए बच्चे विदेशों में जाते ही हैं, अपने देश से , अपने माता-पिता, भाई-बहन से दूर चले जाते हैं...
लेकिन एक देश से दूसरे देश में दाखिल होने के लिए जद्दोजहद करनी पड़े , नौकरी लायक बेटे को विदेश में घर अपना होने पर भी वीज़ा आसानी से न मिले, इस छटपटाहट को शब्दों में बयान नहीं किया जा सकता....
यह दर्द सिर्फ एक का नहीं , कई लोगों का है.....
कई परिवारों के पुरुष विदेश में हैं तो स्त्री देश में घर परिवार की देखरेख करती है, कहीं पुरुष के सहारे पूरा परिवार को छोड़ कर औरत चली आती है विदेश में.... रोज़ी रोटी के कारण , परिवार के पालन पोषण के कारण कितने ही परिवार बिखर जाते हैं....
कुछ दिन पहले समुद्र के किनारे बैठी एक फीलिपीनो औरत को रोते देखा तो रहा न गया... पूछ ही लिया.....'मिस, आर यू ओके?' भीगी आँखों से उसने हमारी तरफ देखा तो उन आँखों मे बहते दर्द को देख न पाए... फौरन आँसू पोछ कर उसने कहा,
आइ एम सिताह....अपनत्व की मुस्कान देखते ही यादों का सैलाब उमड़ पड़ा...
ड्राइवर पति की कमाई से गुज़ारा नहीं हुआ तो पति के सहारे चार बच्चों को छोड़ कर फीलिपीन से दुबई आ गई.......
चलते वक्त पाँच साल के सबसे छोटे बेटे की आँखों को वह कभी नहीं भुला पाई... उन आँखों का दर्द उसके साथ उसकी कब्र तक जाएगा ... ऐसा कहते ही वह फिर रो उठी....
छोटी से एलबम मेरी तरफ बढ़ा दी.....बच्चों और पति की तस्वीर दिखाते हुए कहने लगी कि सबसे बड़ी बेटी अब कॉलेज में है, फीस न भेजने के कारण पढ़ाई अगले साल तक रोकनी पड़ी...
एक साथ दो दो जगह बेबी सिटिंग का काम करके भी गुज़ारा मुश्किल है.... काफी देर तक वह अपने परिवार के बारे बताती रही...
कुछ ही देर में घड़ी देखकर उठ गई कि उसे मैडम और बच्चों को पियानो क्लास खत्म होने पर पिक करना है...सिताह की व्यथा के आगे अपनी कथा तो धूमिल लगने लगी......
सोचने लगी हमारा परिवार तो सिर्फ 4-5 सालों से ही अलग हुआ है... फिर समय समय पर हम मिलते भी रहते हैं....
वरुण के पास साउदी वीज़ा था सो पापा के पास चला गया और हम रेज़िडेंस वीज़ा होने के कारण छोटे बेटे विद्युत के पास आ गए.. सिताह की याद आते ही अपनी परेशानियाँ तो उसके दुख के आगे बहुत कम लगने लगी..... फिर दोनो बेटे अपनी अपनी समझ के अनुसार हमारे मन के संताप को दूर करते हैं...
एक बेटा अगर माँ को चिंता मुक्त करता है तो दूसरा बेटा पिता को नए नए उपाय बताकर उनकी थकान हर लेता है.
दम्माम से 200 कि.मी. दूर अल हफूफ में नए प्रोजेक्ट पर जाने के लिए होटल रुकना और नए घर की तलाश शुरु कर देना...आसान नहीं था... जाना जाता है कि अल हफूफ नाम का शहर साउदी अरब का सबसे गर्म इलाका माना जाता है... फिर भी बला की गर्मी में घर ढूँढ लिया गया...पेपर बने..एडवांस का पैसा दे दिया गया...अब बस हमें पहुँच कर घर बदलना था .....
अचानक खबर आई कि हैड ऑफिस वापिस लौटा जाए , वहाँ ज़रूरत है... सब छोड़ छाड़ कर परिवार को लेकर रियाद जाना होगा.... सुनकर एक पल के लिए सकते में आ गए....... फिर खुशी हुई क्योंकि सालों से हम उसी शहर में रहे थे... 5 साल बाद फिर से उसी शहर में अपने परिचित मित्रों के पास लौटना खुशी की ही बात थी.... अब नए सिरे से फिर से रियाद जाकर एक घर की तलाश शुरु करनी होगी....
अब तो हम कहते हैं कि सारी दुनिया हमारा आशियाना है.... !!
आशियाने के एक कोने में बेटा वरुण है जिसे हम इस पार से प्यार और आशीर्वाद भेज रहे हैं.... अपने देश की पूर्वी दिशा से रचना मौसी ने प्यार और आशीर्वाद भेजा तो उनके साथ और भी कई प्यार करने वाले और शुभकामनाएँ भेजने वाले साथ हो लिए...... तो जंगल में मंगल हो गया.... सूखे रेगिस्तान में प्यार की वर्षा होने लगी.....!

Saturday, May 2, 2009

दिल्ली से दुबई






दुबई में हूँ छोटे बेटे के साथ ... जहाँ छोटे बेटे से मिलने की खुशी है वहीँ बड़े बेटे से बिछुड़ने का दुख भी है. माँ बनते ही औरत की बाकि सभी भूमिकाएँ धूमिल होने लगती है. शायद तभी माँ को सबसे ऊँचा दर्जा दिया जाता है. अचानक हिन्दी फिल्म 'औरत' का एक गीत याद आ गया....'नारी जीवन झूले की तरह इस पार कभी उस पार कभी' ....



दिल्ली हवाई अड्डे पर हम दोनों एक साथ अन्दर दाखिल हुए थे लेकिन दोनों को अलग अलग देशों में जाना था. बेटे ने गल्फएयर से बेहरीन जाना था और हमने एयर अरेबिया से शारजाह. दिल्ली ऐयरपोर्ट दाखिल होते ही पहले हमारा काउंटर आया सो हमने फट से अपना सामान बुक करवा दिया. वरुण धीरे धीरे गल्फ ऐयर के काउंटर की तरफ जाने लगा।
अपना सामान बुक कराने के बाद जब हम गल्फएयर के काउंटर पर पहुँचे. तो काउंटर पर बैठे लोग परेशान हो गए कि हम अन्दर कैसे आ गए. सवाल पर सवाल करने लगे. पूरी कहानी कुछ उलझी हुई थी सो बस इतना ही बता पाए कि हम दुबई छोटे बेटे के पास जा रहे हैं और यह बेटा अपने पापा के पास साउदी अरब जा रहा है. उत्सुकता थी सब कुछ जानने की लेकिन पीछे के मुसाफिरों को देखकर जल्दी से वरुण की मन पसन्द सीट दे दी ...
कुछ देर में हम दोनों वेटिंग लॉंज में थे... हम दोनों की ही फ्लाइट गेट न. 9 से जानी थी.... काफी वक्त होने के कारण एक तरफ कोने की कुर्सियों पर जा बैठे... किसी मुसाफिर की आँखें अभी भी भीगी थी तो कोई मोबाइल पर अपने प्रियजनों से बात करता करता रो रहा था... किसी के चेहरे पर अपने बिछुड़ों से मिलने की खुशी थी.... एयरपोर्ट भी एक अजब जगह है जहाँ कुछ लोग मिलते हैं और कुछ लोग बिछुड़ते हैं... आँखें सब की गीली होती हैं.
हम दोनों मुस्कुरा रहे थे...कुछ ज़्यादा ही ... दोनों ही एक दूसरे को दिखाना चाहते थे कि इस विपरीत परिस्थिति में भी हम सामान्य हैं.. कुछ ही देर में वरुण अपनी फ्लाइट की ओर रवाना हो गया...हमारी निगाहें स्क्रीन पर टिकी थीं जहाँ 'डिपार्टड' लिखा देख कर समझ गए कि अब जहाज़ उड़ चुका है. एक घंटे बाद हमारी फ्लाइट थी. बेटे के बिना एक घंटा भारी लगने लगा...ऐसे में डयूटी फ्री शॉप घूम कर वक्त आसानी से कट गया और घोषणा होते ही हम भी जहाज़ की ओर बढ़ गए...
सालों से सफ़र करते हुए भी जहाज़ में दाखिल होते ही दिल कुछ तेज़ी से धड़क उठता है. वरुण के दादाजी ने एक बार अपने पास बिठाकर कहा था कि देखता हूँ कि तुम पूजा पाठ नहीं करती हो लेकिन एक बात मेरी मानना कि महामृत्युंजय मंत्र का पाठ ज़रूर किया करो, सफ़र में चलते हुए तो ज़रूर करना बस तब से हमेशा सीट पर बैठते ही
'महा मृत्युंजय' का पाठ करने लगते हैं...कब आँख लगी पता नहीं चला, लैंडिंग के वक्त ही आँख खुली.
एयरपोर्ट उतरते ही पहले विद्युत को फोन लगाया, उसका हालचाल पूछने की बजाए पहले वरुण के खैरियत से पहुँचने की खबर जाननी चाही. दोस्त 'अर्बुदा' जिसे हम स्लीपिंग ब्लॉगर कहते हैं उसके पति गौरव वरुण को घर ले जा चुके थे. अगले दिन पति आकर ले जाएँगे यह पता लगने पर शांत मन से एयरपोर्ट से बाहर निकली.
बाहर निकलते निकलते आधी रात हो चुकी थी. विद्युत को कह चुके थे कि हम टैक्सी से घर पहुँच जाएँगें. जैसे ही हम टैक्सी स्टैंड तक पहुँचे , हमें फिलीपीनो ड्राइवर, जो 30-35 साल की लग रही थी , उसकी टैक्सी में बैठने को कहा. लेडी ड्राइवर ने बड़ी फुर्ती से हमारा सामान कार में रखा और घर का पता पूछने लगी।
दुबई के उस पार का पता जान कर दूरी के कारण कुछ पल के लिए वह झिझकी लेकिन फिर एक बड़ी मुस्कान के साथ बिस्माल्लाह कह कर टैक्सी स्टार्ट कर दी. टैक्सी 120 की स्पीड पर सड़क पर दौड़ने तो लगी लेकिन लगा कि हवाई जहाज़ के सफ़र में तो हम बच गए ...कहीं ऐसा न हो यह लेडी ड्राइवर हमें ज़मीन पर पटक दे सदा के लिए.... डर तो बहुत रहे थे लेकिन फिर हमने महामृत्युंजय का मंत्र पढ़ना शुरु कर दिया. सोचने लगे शायद देर रात की सवारी की उम्मीद न थी लेकिन अब इतनी दूर जाना पड़ गया.
कुछ देर बाद रहा न गया ,,, आखिर पूछ ही लिया, 'हैलो मिस, आर यू ओके?' 'यस यस मदाम,,,आइ एम ओके...' कुछ देर बाद फिर से अपने आप ही बोल उठी कि चार साल से ड्राइविंग करते हुए उसे कमर में दर्द रहने लगा इसलिए वह वापिस अपने देश लौट जाएगी. सड़क पर दौड़ती टैक्सी की जितनी स्पीड थी उससे कहीं ज़्यादा हमारे दिल की धडकन थी, असल में जब तक हमें ड्राइविंग नहीं आती तब तक तो हम किसी के साथ भी आराम से बैठ सकते हैं लेकिन जब खुद गाड़ी चलाने लगो तो दूसरे पर विश्वास करना थोड़ा मुश्किल लगने लगता है.
खैर अपने घर पहुँच ही गए, बेटा पहले से ही बाल्कनी में खड़ा इंतज़ार कर रहा था, फौरन आकर गले लग गया, (पैर छूना भूल गया और हम गले लगते ही बताना भूल गए) इस बार घर पहले से बहुत साफ सुथरा था बस कपड़े ही कपड़े दिखाई दे रहे थे.
मेरे पहुँचने से पहले डिनर मँगवा लिया था. दोनो ने एक साथ खाना खाया. कुछ ही देर में बेटा चाय भी बना कर ले आया. सारी थकान , सारी चिंता दूर हो गई. अगले दिन बेटे का आखिरी एग्ज़ाम था सो जल्दी ही सो गए कि सुबह कॉलेज छोड़ने जाना है. अगले दिन एक नई दिनचर्या का स्वागत करना था...!