Sunday, December 2, 2007

पाँव बने ममता भरे हाथ !!

दोनों हाथ खोकर भी हिम्मत न हारने वाली लड़की ने विवाह ही नहीं किया बल्कि माँ बनकर यह भी दिखा दिया कि जहाँ चाह है , वहाँ राह भी निकल आती है. साफ सुथरे पैर जो हाथ बने हैं , उनका हुनर आप स्वयं देखिए...


4 comments:

Divine India said...

जिसके पास हिम्मत होती है खुदा भी उसी का साथ देता है… बहुत बढ़िया प्रस्तुति।

parul k said...

दी,बहुत रोमांचित करने वाली ्प्रस्तुति,साथ ही लाज भी आ रही है कि कैसे घड़ी घड़ी सेवको पर आश्रित रहते हैं हम दो हांथों वाले जीव

रंजू said...

बहुत बढ़िया !!

संगीता पुरी said...

उसके हुनर को देखकर सचमुच बहुत अच्‍छा लगा ।